आई.ए.एस में सलेक्सन बताकर जगह-जगह करा रहा था स्वागत, अखबार में इंटरव्यू छपने से खुल गई पोल, पुलिस ने किया गिरफ्तार

मेरठ: IAS में सलेक्सन होने की बात बताकर धोका देने और साथ-साथ अलग-अलग  स्थानों पर स्वागत समारोह में हिस्सा ले रहे हापुड़ के सिद्धार्थ गौतम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यूपीएससी का रिजल्ट आने के बाद इसमें चयनित होने का फर्जी दावा कर सिद्धार्थ पिछले कुछ दिनों से पूरे शहर का हीरो बना हुआ था। अखबारों में इंटरव्यू छपने के साथ ही फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया। अब फर्जी आईएएस सिद्धार्थ पुलिस की गिरफ्त में है। उधर, फर्जीवाड़े की जानकारी मिलते ही पिता को हार्ट अटैक आ गया। फिलहाल स्थानीय अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

दरअसल, यूपीएससी-2018 का रिजल्ट 6 अप्रैल को घोषित हुआ था। इस परीक्षा में 532वीं रैंक पाने वाले अभ्यर्थी का नाम भी सिद्धार्थ गौतम ही है। हापुड़ में कंप्यूटर सेंटर चलाने वाले सिद्धार्थ ने अपने हमनाम का फायदा उठाते हुए कंप्यूटर के जरिए फर्जी रिजल्ट (अपने नाम और पते के साथ) निकाल खुद को इस सबसे कठिन परीक्षा में सफल घोषित कर दिया।

दोस्त, रिश्तेदार सब हो गए थे खुश
इसके बाद तो बधाई देने वालों का तांता लग गया। परिवार के लोग तो खुश हुए ही दोस्त और रिश्तेदार भी बधाई देने के लिए घर पर पहुंचने लगे। स्थानीय मीडिया को जानकारी हुई तो इंटरव्यू लेने पहुंच गए। बस यहीं से सिद्धार्थ का फर्जीवाड़ा सबके सामने आ गया।

असली बनाम नकली सिद्धार्थ
इंटरव्यू पढ़ने के बाद 532वीं रैंक हासिल करने वाले असली सिद्धार्थ ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। असली सिद्धार्थ फिलहाल आईआरएएस (IRAS) के रूप में कार्यरत हैं। 2017 में भी वह इस परीक्षा में सफल हुए और 2018 में 532वीं रैंक हासिल करने में सफल रहे।


आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज

मेरठ के एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया, ‘हापुड़ में सिद्धार्थ के घर से उसे गिरफ्तार किया गया। धोखाधड़ी को लेकर उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *